छत्तीसगढ़ राजधानी रायपुर से राजस्थान के कोटा में लॉकडाउन के दौरान फंसे छात्र-छात्राओं को लाने 75 बसों को रवाना किया,प्रदेश में पहले स्वास्थ्य सेवक के COVID-19 पॉजिटिव होने की खबर चिंताजनक जरूर है लेकिन हमें यकीन है कि जिस प्रकार से हमारे सेनानियों ने इस लड़ाई को एक कुशल योद्धा के रूप में लड़ा है, अल्प विराम के बाद पुनः स्वस्थ होकर वो हम सबके बीच होंगे। हम उनका पूरा ख्याल रख रहे हैं।

आज राजधानी रायपुर से राजस्थान के कोटा में लॉकडाउन के दौरान फंसे छात्र-छात्राओं को लाने 75 बसों को रवाना किया गया है। बसों के साथ एम्बुलेंस सहित डॉक्टरों का दल भी भेजा गया है, ताकि कोटा से आने वाले छात्रों के स्वास्थ्य परीक्षण के पश्चात उन्हें बसों से लाया जा सके।


इसके अलावा 
छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री जी एम्स के डारेक्टर श्री एन. एम नागरकर जी से दूरभाष पर चर्चा कर कोरोना वायरस से संक्रमित एम्स के नर्सिंग आफिसर एवं भर्ती अन्य मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी ली है। उन्होने कहा प्रदेश में पहले स्वास्थ्य सेवक के COVID-19 पॉजिटिव होने की खबर चिंताजनक जरूर है लेकिन हमें यकीन है कि जिस प्रकार से हमारे सेनानियों ने इस लड़ाई को एक कुशल योद्धा के रूप में लड़ा है, अल्प विराम के बाद पुनः स्वस्थ होकर वो हम सबके बीच होंगे।

हम उनका पूरा ख्याल रख रहे हैं।
साथ ही श्री नागरकर से डाक्टरों, नर्स एवं अन्य स्टाफ को संक्रमण से बचाने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतने को कहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

google.com, pub-6066490989146594, DIRECT, f08c47fec0942fa0